HomeJob Profile

SSC संयुक्त स्नातक स्तरीय(CGL) परीक्षा से जुडी पूरी जानकारी

SSC संयुक्त स्नातक स्तरीय(CGL) परीक्षा से जुडी पूरी जानकारी
Like Tweet Pin it Share Share Email

SSC संयुक्त स्नातक स्तरीय(CGL) परीक्षा से जुडी पूरी जानकारी

SSC यानी STAFF SELECTION COMMISSION हिंदी में कर्मचारी चयन आयोग भी कहा जाता हैISSC की स्थापना अनेक प्रकार के कार्यालयों के महत्वपूर्ण गतिविधियों को हल करने के लिए भारत सरकार द्वारा 4 नवंबर 1975 को की गयी थीISSC  के अधीन कार्यालयों से जुड़े और विभिन्न विभागों से संबंध रखने वाले अनेक परीक्षाएं प्रति वर्ष आयोजित की जाती है जिनमें संयुक्त स्नातक स्तरीय परीक्षा(Combined Graduate Level) प्रमुख हैI SSC की दृष्टि से यह एक बहुत ही प्रतिष्ठित और महत्वपूर्ण परीक्षा हैISSC CGL की परीक्षा में विभिन्न मंत्रालयों, संगठनों एवं विभागों के ग्रुप बी और ग्रुप सी के अंतर्गत तकनिकी तथा गैर तकनिकी  इनकम टैक्स ऑफिसर,सहायक प्रवर्तन अधिकारी,सहायक लेखा पदाधिकारी एक्साइज ड्यूटी,CBI,डाक विभाग,नारकोटिक्स,विभिन्न विभागों में अवर-निरीक्षक(Inspector),नारकोटिक्स ,एग्जामिनर इत्यादि जैसे पदों के लिए CGL के माध्यम से चुना जाता हैI यह करियर की दृष्टि से काफी अहम माना जाता हैI अगर आप सरकारी नौकरी में इच्छुक हैं तो CGL एक प्रतिष्ठित करियर के तौर पर अच्छा विकल्प है,आकर्षक वेतनमान के साथ-साथ देश के अहम विभागों की जिम्मेदारी को संभालना होता हैI  जाहिर सी बात है कि जो जितना ही रिस्पांसिबल वाला करियर होता है उतना ही ज्यादा सम्मान प्राप्त होता हैIइस क्षेत्र की खासियत यह है की समय-समय पर पदों पर प्रमोशन और वेतनमान में भी वृद्धि होती हैI

  • शैक्षणिक योग्यता व उम्र(Educational Qualification & Age)-

चुकी इसके नाम से ही पता चलता है की संयुक्त स्नातक स्तरीय परीक्षा(CGL)में आवेदन के लिए उम्मीदवार को न्यूनतम  शैक्षणिक योग्यता किसी भी शैक्षणिक संस्थान या विश्वविद्यालय से 50% अंक के साथ किसी भी विषय या संकाय में स्नातक (Graduate) उत्तीर्ण होना अनिवार्य हैIअगर उम्र की बात की जाए तो आवेदक का  न्यूनतम उम्र 18 वर्ष और अधिकतम उम्र 27 वर्ष निर्धारित की गई हैI ओबीसी(OBC) और एससी-एसटी(SC/ST) वर्ग के अभ्यार्थियों के लिए सरकारी नियमानुसार क्रमशः 3 वर्ष और 5 वर्ष छूट प्रदान की गई हैI शारीरिक रूप से असक्षम विद्यार्थियों के लिए उम्र में 10 वर्ष की छूट देने का प्रावधान हैI  

       इसके अलावा कुछ विशिष्ट  पदों के लिए उम्र 20 से 30 वर्ष निर्धारित की गई है और स्नातक के अलावा पद के मांगानुसार कुछ स्पेशल शैक्षणिक डिग्री भी होना अनिवार्य हैI 

 

  • परीक्षा तथा सिलेबस(Examination & Sylllabus)-

संयुक्त स्नातक स्तरीय(Combined Graduate Level) के परीक्षा चार चरण(Tier) में आयोजित की जाती हैI अधिकाँश पदों के लिए प्रत्येक चरण की परीक्षा में  उत्तीर्ण होना अनिवार्य हैI

  • Tier-1 Examination(प्रथम चरण की परीक्षा)-   

      प्रथम चरण(Tier-1) की परीक्षा कंप्यूटर बेस्ड टेस्ट(CBT) पर आधारित  ऑनलाइन आयोजित की जाती है जिसकी समय सीमा 1 घंटे(60 मिनट)का होता है,जिसमें कुल प्रश्नों की संख्या 100 होती हैI जो निम्नलिखित चार अनुभाग में बंटे होते हैं-(1)जनरल इंटेलिजेंस एंड रीजनिंग(२) सामान्य ज्ञान तथा जनरल अवेयरनेस(3)इंग्लिश लैंग्वेज एंड कंप्रीहेंशन(English Language and Comprehension) (4)मैथ्स(Quantitative Aptitude)I  प्रत्येक अनुभाग में 25-25 प्रश्न पूछे जाते हैंI परीक्षा में Total Marks 200का होता है और प्रत्येक गलत उत्तर पर Negative Marking के नियम होते हैं जिनमें गलत उत्तर के लिए 0.5 अंक उम्मीदवार द्वारा प्राप्त अंकों में से कटौती की जाती हैI 

  • (Tier-1 तथा Tier-2) का परीक्षा  सिलेबस-

SSC CGL के प्रथम चरण(Tier-1) में प्रत्येक विषय से 25 प्रश्न पूछे जाते हैं जिनमें कुछ सामान्य तथा कुछ कठिन होता है, पूर्ण रूप से सिलेबस और एग्जाम पैटर्न को जान लेने के बाद निरंतर अभ्यास से सही प्रश्न निश्चित समय में हल किए जा सकते हैंI प्रथम चरण में मैट्रिक स्तर के प्रश्न अधिकांशत: पूछे जाते हैंI 

  •  जनरल इंटेलिजेंस एंड रीजनिंग- 

इस अनुभाग में परीक्षार्थी के सोचने क्षमता और किसी दबाव में किस प्रकार से अपने कौशल का उपयोग करके एक निश्चित समय में किसी भी कठिनाई को समाधान करना है इस उद्देश्य से इसमें परीक्षण किया जाता हैI  सामान्य बुद्धि एवं तर्कशक्ति में इन निम्नलिखित अध्याय से अधिकतम प्रश्न पूछे जाते हैंI 

  •   वर्गीकरण(Claasification)
  • सादृश्यता(Analogy)
  • सांकेतिक भाषा(coding and decoding)
  • Alphabet test
  •  Matrix test 
  •  Blood Relation test
  • Logical deduction
  •  Classification test
  •  Dice and cube
  •  Direction
  • Paper Folding and cutting 
  • Figure counting and completion 
  • Order sequence test 
  •  Numerical operation 
  • Arithmetic number series 
  • Statement And conclusion 

 

  • मैथ्स (Quantitative Aptitude)

प्रथम चरण के इस अनुभाग  के माध्यम से अभ्यार्थियों का संख्यात्मक अभिरुचि तथा गणितीय आंकड़ा का परीक्षण किया जाता हैI इस विषय के अंतर्गत Tier-1 तथा Tier-2 दोनों में ही इन प्रमुख चैप्टर्स से प्रश्न पूछे जाते हैंI 

  • संख्या पद्त्ति(Number System)
  • सरलीकरण 
  •  औषत 
  •  घन तथा घनमूल 
  • वर्गमूल
  •  रैखिक समीकरण के ग्राम
  •  घातांक तथा करनी
  •  प्रतिशत
  •  समय और दूरी
  •  समय तथा कार्य
  •  मिश्रण और एलिवेशन
  •  महत्तम समापवर्तक एवं लघुत्तम समापवर्तक(HCF & LCM)
  •   नाव तथा धारा
  •  त्रिकोणमिति
  •  बार डायग्राम और पाई चार्ट 
  • ज्यामिति तथा क्षेत्रमिति(Geometry and Mensuration)
  • अनुपात तथा  समानुपात 
  • ऊंचाई तथा दूरी(Height and Distance)
  • पॉलीगोन(Polygon),वृत्त(Circle),त्रिभुज(Triangle),चतुर्भुज(Quadrilateral),शंकु(cone),बेलन(Cylinder),गोला(Sphere & Hemisphere),प्रिज्म(Prism)
  • हिस्टोग्राम(Histogram)
  •  कंप्लीमेंट्री एंगल्स।
  1. English Language and Comprehension-

अक्सर देखा जाता  है कि वैसे विद्यार्थी जिनके सामान्य ज्ञान तथा सामान्य विज्ञान और गणित में अच्छी पकड़ होने के बावजूद भी अंग्रेजी के कारण CGL  परीक्षा में सफल नहीं हो पाते हैंI इसलिए यह विषय Tier-1 तथा Tier-2 दोनों ही परीक्षाओं के लिए सबसे महत्वपूर्ण हैI अभ्यार्थियों को English Grammar के सही प्रयोग तथा vocabulary के नॉलेज हो तो सफलता हासिल करने में उतनी कठिनाई नहीं होगीI Tier-1 में  इंग्लिश से निम्नलिखित विषय होते हैंI 

  • Synonyms and antonyms
  •  spelling test
  •  one word substitution
  •  spotting errors
  •  idioms and phrases
  •  reading comprehension
  •  sentence improvement 
  •  Sentence completion
  •  Fill in the blanks
  •  Active/ passive voice of verbs 
  •  conversion into direc/ indirect narration
  •  suffeling of sentence part
  • Close  passage 
  • Spelling detecting/mis spelt word 
  • Comprehension passage
  1. सामान्य ज्ञान तथा सामान्य जागरूकता(General knowledge & Current Affairs )

इस विषय के माध्यम से अभ्यार्थी के सामान्य ज्ञान तथा राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय स्तर पर हाल हीं  के विगत वर्षों में हो रही महत्वपूर्ण घटना एवं उसके प्रति जानकारियां और समझ का परीक्षण किया जाता हैI प्रमुख रूप से  भारतीय इतिहास, राजव्यवस्था, अर्थव्यवस्था, भूगोल, सामान्य विज्ञान, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी, बेसिक कंप्यूटर नॉलेज और सामान्य ज्ञान तथा करंट अफेयर्स के विषय में विस्तृत पूर्वक ज्ञान होना आवश्यक हैI इसका सिलेबस परिपूर्ण रूप से  निर्धारित नहीं होती इसलिए आकलन करना थोड़ी मुश्किल हैI इन विषयों का प्रत्येक एग्जाम पैटर्न के बाद प्रत्येक वर्ष सिलेबस बदलते रहता हैI इसलिए सबसे अच्छा यह होगा कि आप इसके वास्तविक वेबसाइट से जाकर परीक्षा के नोटिफिकेशन आने पर सामान्य ज्ञान से सबंधित सिलेबस का जांच कर सकते हैंI  

  • Tier-2 Examination( द्वितीय चरण की परीक्षा)-

 प्रथम चरण(Tier-1) के  परीक्षा में सफल होने वाले परीक्षार्थी को ही द्वितीय चरण की  परीक्षा में बैठने की अनुमति दी जाती हैI द्वितीय चरण की परीक्षा में चार पेपर होते हैंI यह परीक्षा भी  कंप्यूटर बेस्ड टेस्ट पर आधारित 2 घंटे अवधि का ऑनलाइन मोड में होता हैI जिम में कुल प्रश्नों की संख्या 100 होती है जिनके लिए अधिकतम अंक 200 निर्धारित किए गए हैंI जिनमें (1)परिमाणात्मक योग्यता(Quantitative Abilities) (2)सांख्यिकी(Statics) (3) English Lnaguage and Comprehension और (4) सामान्य अध्ययन- विधिशास्त्र तथा अर्थशास्त्र  विषयों से संबंधित प्रश्न पूछे जाते हैंI Tier-2 में प्रत्येक गलत उत्तर के लिए 0.25 अंक की कटौती की जाती हैI प्रथम चरण की भांति द्वितीय चरण की परीक्षा में भी ऑब्जेक्टिव टाइप के सवाल पूछे जाते हैंI Tier-2 में पेपर का बारहवीं कक्षा(10+2) के समकक्ष(सामान स्तर) की होती हैI द्वितीय चरण की परीक्षा में भी क्वानटेटिव एबिलिटी और इंग्लिश लैंग्वेज एंड कंप्रीहेंशन में  प्रथम चरण की भांति ही समान चैप्टर से सवाल पूछे जाते हैंI परंतु द्वितीय चरण में रिजनिंग जगह पर सांख्यिकी सभी सवाल पूछे जाते हैं जो केवल जूनियर सांख्यिकी अधिकारी पद के लिए आवेदन करने वाले अभ्यार्थियों से पूछे जाते हैंIजिसका सिलेबस निम्नलिखित हैI 

 सांख्यिकी(Statistics)-

  • Collection, classification and presentation of statistical Data 
  • Probability Theory 
  • Random variable and probability distribution
  •  sampling theory
  •  statistical inference
  •   Time series analysis
  •  Measure of Central tendency 
  • Measure of dispersion
  • Moments, skewness and kurtosis
  •  correlation and regression
  •  index number

सामान्य अध्ययन -वित्त एवं अर्थशास्त्र(General Studies-Finance & Economics)-

Tier-2 का यह यह विषय का पेपर केवल वैसे अभ्यार्थी जो सहायक लेखा  परीक्षा अधिकारी से संबंधित पदों के लिए आवेदन करते हैं उनके लिए हैI  इस इस विषय के पेपर के दो भाग होते हैंI भाग A-वित्त एवं लेखा (Finance and Accounts) तथा भाग-B अर्थशास्त्र एवं गवर्नेंस(Economics and Governance). भाग-A  में 80 Marks तथा भाग-B में कुल 100 Marks का होता हैI जिनमें प्रमुख रूप से इन टॉपिक्स से सवाल पूछे जाते हैंI भाग -A मैं फाइनेंसियल एकाउंटिंग बेसिक कॉन्सेप्ट ऑफ एकाउंटिंग से संबंधित सवाल पूछे जाते हैंI  जबकि भाग-B से भारत का नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक, वित्त आयोग सूक्ष्म अर्थशास्त्र तथा अर्थशास्त्र का मूलभूत सिद्धांत, मांग एवं पूर्ति का सिद्धांत, उत्पादन एवं लागत का सिद्धांत, विभिन्न बाजारों में मूल निर्धारण तथा बाजारों के प्रकार, भारत में आर्थिक सुधार, भारतीय अर्थव्यवस्था के नियम, गवर्नर सूचना प्रौद्योगिकी की भूमिका, धन और बैंकिंग इत्यादि जैसे प्रमुख टॉपिक्स से सवाल पूछे जाते हैंI 

  • तृतीय चरण की परीक्षा(Examination of Tier-3)

तृतीय चरण(Tier-3) की परीक्षा वर्णनात्मक प्रकार की परीक्षा होती है जिनमें पेन और पेपर मोड में 60 मिनट की अवधि होती हैI यह पेपर केवल जूनियर सांख्यिकी अधिकारी पद के लिए आवेदन करने वाले अभ्यार्थियों के लिए हैI  इस परीक्षा में निबंध, सारांश, आवेदन, गद्यांश, पत्र इत्यादि से संबंधित टॉपिक पर लिखना होता हैI इसके माध्यम से अभ्यार्थी की भाषा दक्षता, शब्दावली का उपयोग, व्याकरण तथा ग्रामर का ज्ञान के साथ-साथ लेखनी कौशल का परीक्षण किया जाता हैI  इसमें (10+2) स्तर से सबंधित प्रश्न पूछे जाते हैंI अधिकतम अंक निर्धारित किए गए हैंI जिनमें कलिफाई के लिए कम से कम 33% अंक प्राप्त करना आवश्यक है इसके अलावा कट ऑफ मेरिट लिस्ट पर रिजल्ट निर्भर करता हैI हिंदी तथा अंग्रेजी की व्याकरण और रचना संबंधीत सवाल पूछे जाते हैंI 

  •  चतुर्थ चरण की परीक्षाExamination of Tier-4)

चतुर्थ चरण की परीक्षा केवल सहायक लेखा परीक्षा अधिकारी तथा सहायक लेखा अधिकारी, डाटा एंट्री ऑपरेटर,सहायक अनुभाग अधिकारी( C. S. S तथा विदेश मंत्रालय) इत्यादि संबंधीत आवेदन करने वाले के लिए है जिसके लिए Tier-1 का परीक्षा उत्तीर्ण करना अनिवार्य हैI Tier-4 परीक्षा में डाटा एंट्री स्पीड टेस्ट(Data Entry Speed Test) तथा कंप्यूटर प्रोफिसिएंसी टेस्ट(Computer Proficiency Test) जैसे  कुछ कौशल परीक्षण लिए जाते हैंI 

    डाटा एंट्री स्पीड टेस्ट के माध्यम से उम्मीदवार की टाइपिंग की गति का परीक्षण किया जाता हैI  टेस्ट में एक पैराग्राफ जाता है जिसमें समयावधि 15 मिनट की होती है जिसके अंदर कम से कम 2000 की -इम्प्रेशंस  के साथ टाइप करना होता हैIकेंद्रीय उत्पाद शुल्क और आयकर के पद हेतु डाटा एंट्री की गति कंप्यूटर पर 8000 की-इम्प्रेशंस प्रति घंटा होना चाहिएI 

कंप्यूटर प्रोफिसिएंसी टेस्ट के माध्यम से क्वालीफाई प्रकृति के इस टेस्ट का वर्ड प्रोसेसिंग,  स्प्रेडशीट और पावरप्वाइंट स्लाइड मॉड्यूल में किया जाता हैI