HomeJob Profile

GATE EXAM : इंजीनियरिंग का सर्वोत्तम द्वार(GATE से जुड़ी पूरी जानकारी)

GATE EXAM : इंजीनियरिंग का सर्वोत्तम द्वार(GATE से जुड़ी पूरी जानकारी)
Like Tweet Pin it Share Share Email

GATE EXAM:इंजीनियरिंग का सर्वोत्तम द्वार(GATE से जुड़ी पूरी जानकारी)

GATE इंजीनियरिंग का प्रवेश द्वार कहा जाता हैIदेश के किसी भी सर्वोच्च इंजीनियरिंग संस्थानों में मास्टर डिग्री कोर्स में लेने के लिए GATE की परीक्षा उत्तीर्ण करना अनिवार्य हैI दूसरे शब्दों में जो लोग इंजीनियरिंग में या विज्ञान के क्षेत्र से स्नातक की डिग्री हासिल कर लिए हैं और आगे की पढ़ाई एक बेहतर प्लेसमेंट और  अपने क्षेत्र के में दक्षता हासिल कर बिल्कुल मास्टर बनना चाहते हैं तो उसके लिए GATE परीक्षा पास करना होता हैI वैसे तो किसी भी इंजीनियरिंग विद्यार्थियों की सर्वोत्तम पसंद GATE का एग्जाम होता है परंतु इसमें कड़ी प्रतिस्पर्धा के कारण काफी मेधावी छात्र ही इसमें सफल हो पाते हैंI GATE का अर्थ होता है Graduate Aptitude Test In Engineering एक राष्ट्रीय स्तर का  एंट्रेंस एग्जाम हैI इसकी परीक्षा प्रत्येक वर्ष एक बार आयोजित की जाती हैI प्रत्येक वर्ष GATE एग्जाम में लाखो छात्र उपस्थित होते हैं जिनमे मात्र 15 से 20 फीसदी लोग ही सफल हो पाते हैंIविशेष बात यह है कि यह सिर्फ भारतीय छात्र के लिए ही नहीं बल्कि पूरी एशिया के छात्र भी आवेदन कर सकते हैंIGATE का भारतीय राष्टीय विज्ञान संस्थान,एग्जाम नेशनल कोऑर्डिनेशन बोर्ड के तरफ से IISC(Indian Institute of Science) और तमाम प्रतिष्ठित IIT कॉलेजों के द्वारा संपन्न की जाती हैIइसका आयोजन जो मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा की जाती हैI

  • क्यों होती है GATE परीक्षा?

कोई भी  विद्यार्थी अगर GATE  एग्जाम उत्तीर्ण करता है तो वह किसी भी सर्वेश्रेष्ठ इंजीनियरिंग शैक्षणिक संस्थान इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस बेंगलुरु और देश के  प्रतिष्ठित IIT कॉलेज या विश्वविद्यालय से पोस्टग्रेजुएट( M.TECH(Master of Engineering),ME(Master of Engineering),Doctor of Philosophy ) या PHD की पढ़ाई कर सकता हैI इसके अलावा उनके पढ़ाई के खर्च के साथ -साथ सरकार द्वारा स्कॉलरशिप प्रदान की जाती हैI इंजीनियरिंग में मास्टर की डिग्री इसलिए भी अधिक अनिवार्य हो जाता  है कि आज वर्तमान में मोटे तौर पर देखा जाए तो अंडर ग्रेजुएट स्तर पर कॉलेजों में लगभग 15,00,000 इंजीनियरिंग सीट्स हैं जो पूर्व की तुलना में इंजीनियरिंग सीट्स की संख्या घटती जा रही हैIइसके पीछे का मूल्य कारण यह बताया गया है कि सिर्फ की तुलना में छात्रों का एडमिशन कमरा जाना जिससे अधिकतर सीट रिक्त रह जाते हैं जिसके कारण  अनेक इंजीनियरिंग कॉलेज अपनी मान्यता खो रहे हैंI इसी वजह से किसी प्रतिष्ठित कंपनियां उनका प्लेसमेंट नहीं हो पाता हैI वर्तमान में हमारे देश में लगभग 3000 इंजीनियरिंग कॉलेज है जिनसे प्रतिवर्ष सात से आठ लाख इंजीनियर अंडर ग्रेजुएट की डिग्री लेकर निकलते हैंI और हमारे देश में इतनी बड़ी तादाद में इंजीनियर के लिए जॉब उपलब्ध नहीं हैI अधिक से अधिक मात्र 80000 से लेकर 100000 इंजीनियर कोई मन मुताबिक जॉब मिल पाता है और शेष जॉब से वंचित रह जाते हैं या उनकी योग्यता अनुसार जॉब नहीं मिल पाता हैI परंतु अगर आप किसी आईआईटी, एनआईटी तथा अन्य इंजीनियरिंग कॉलेज से  पोस्ट ग्रेजुएट, डॉक्टरेट डिग्री हासिल करते हैं तो इससे आपके लिए बड़ी-बड़ी कंपनियों में इंजीनियर के रूप में कैरियर बनाने में भी सफल होते हैंI इसके अलावा सरकारी तौर पर भी सर्वोच्च पदों के लिए अन्य प्रकार के नौकरी के विकल्प खुल जाते हैंI

  • प्रवेश प्रक्रिया-

GATE एग्जाम का आवेदन करने के लिए छात्र के पास BE,B-TECH की डिग्री होना अनिवार्य हैIइसके अलावा वैसे विद्यार्थी जिनके पास बैचलर ऑफ़ आर्किटेक्चर या डिप्लोमा की डिग्रीधारक भी आवेदन कर सकते हैंIGATE एग्जाम के लिए उम्र की  कोई न्यूनतम सीमा नहीं निर्धारित की गयी हैI 

  • परीक्षा

GATE के अंतर्गत वस्तुनिष्ठ प्रकार के और न्यूमेरिकल दोनों ही प्रकार के प्रश्न पूछे जाते हैंI इनमें कुल प्रश्नों की संख्या 65 होते हैं जिनके लिए कुल Marks 100 निर्धारित की  गयी हैIप्रत्येक गलत उत्तर के लिए 0.50 अंक काट लिए जाते हैंI