HomeJob Profile

CSAT क्या है?(CSAT से सबंधित पूरी जानकारी )

CSAT क्या है?(CSAT से सबंधित पूरी जानकारी )
Like Tweet Pin it Share Share Email

CSAT क्या है?(CSAT से सबंधित पूरी जानकारी )

CSAT अर्थात Civil Services Aptiude Test एक प्रकार का प्रारंभिक प्रवेश परीक्षा है।  या यूँ कहे की यह एक क्वालीफाईंग पेपर है जो यूपीएससी के द्वारा ली जाती है।संघ लोक सेवा आयोग( UPSC -Union Public Service Commission) द्वारा सिविल सेवा परीक्षा में CSAT परीक्षा के माध्यम से विभिन्न पदों पर नियुक्ति हेतु अभ्यर्थियों के काबिलियत योग्यता को  आंका जाता है। सिविल सेवा की परीक्षा तीन चरणों में आयोजित की जाती है।(1) प्रारंभिक परीक्षा (2) मुख्य परीक्षा (3) साक्षात्कार।संघ लोक सेवा आयोग की परीक्षा में तो 200-200 अंकों का दो प्रश्नपत्र होते हैं। प्रथम प्रश्नपत्र सामान्य अध्ययन का जिनमें कुल प्रश्नों की संख्या 100 होती है और 2 अंक(Marks)  प्रत्येक सही उत्तर पर दिया जाता है।दूसरा प्रश्नपत्र होता है वह CSAT का होता है। इनमें कुल प्रश्नों की संख्या 80 होती है इसके लिए प्रत्येक प्रश्न पर 2.5 -2.5 अंक निर्धारित किया जाता है।

अगर  CSAT की बात की जाय तो यह एक क्वालीफाइंग टेस्ट पेपर है अर्थात इस परीक्षा में  केवल उत्तीर्ण करना होता है, कहने का आशय यह है कि इस पेपर के परिणामी अंक दूसरे मुख्य परीक्षा में सम्मिलित नहीं किया जाता है ।इसमें पास होने के लिए केवल  33% प्राप्त करने होते हैं जिससे यूपीएससी द्वारा आयोजित दूसरी मुख्य परीक्षा में उपस्थित हो सके। CSAT कुछ अभ्यार्थियों के लिए सरकारी नौकरियों में किसी अन्य निचले क्रम के पदों के लिए होने वाली प्रतियोगी परीक्षाओं की भाँती औसत(सरल)  के रूप में देखते हैं वहीं कुछ विद्यार्थियों के लिए CSAT में पास करना काफी कठिन हो जाता है।अक्सर देखा जाता है कि अधिकांशत: वैसे अभ्यार्थी हीं इसमें सफलता अर्जित नहीं कर पाते हैं जिनको सही मार्दर्शन और CSAT से सबंधित पूरी जानकारी नहीं होती है जिसके कारण परिश्रम करने के बावजूद भी एक कारगर रणनीति नहीं बना पाते हैं। CSAT क्वालीफाइंग एग्जाम पेपर है, इसलिए प्रारंभिक परीक्षा की कट ऑफ सामान्य अध्ययन जो कि प्रथम प्रश्न पत्र होता है उसी के आधार पर तैयार की जाती है। CSAT तैयारी करते समय दोनों ही चीजें में संतुलित रखनी पड़ेगी ना तो इतना यह आसान है कि आप अतिआत्मविश्वासी हो जाए और ना ही इतनी मुश्किल जिसके लिए बहुत ही अधिक समय इसके विषय पर अध्ययन करने की जरूरत है, केवल सही टाइम मैनेजमेंट के साथ नियमित अभ्यास और सीसैट के बारे में विस्तार से जानकारी आपको सफलता हासिल करवा सकती है। CSAT मैं कोई भी विद्यार्थी अगर 33% अंक प्राप्त नहीं कर पाए तो प्रारंभिक परीक्षा में असफल माना जाता है, CSAT के प्रश्नपत्र में पूछे जाने वाले सभी सवाल सामान्य अध्ययन से काफी भिन्न होते हैं,इसलिए इसकी तैयारी के लिए एकाग्रता  के साथ-साथ यूपीएससी से सबंधित अन्य परीक्षाओं की भाँती ही ध्यान देना होगा।

  • CSAT के अंतर्गत पूछे जाने वाले पाठ्यक्रम(Syllabus)-

बोधगम्यता(Comprehension)-

CSAT के अंतर्गत अधिकांशत: सवाल बोधगम्यता से पूछे जाते हैं। यह पेपर का अहम हिस्सा है  बोधगम्यता के माध्यम से परीक्षार्थी के विषय संबंधी उसके पूर्वाज्ञान का आकलन, भाषाई कौशल, विश्लेषण और निर्णय क्षमता, किसी विषय वस्तु की गहरी समझ,समझने और पढ़ने की क्षमता इत्यादि चीजों को ध्यान में रखते हुए आकलन किया जाता है। इसके अंतर्गत पैसेज  रूप में इससे अधिक प्रश्न पूछे जाते हैं। पैसेज को ध्यानपूर्वक होकर पढ़ना चाहिए ताकि लेखक के मुख्य विचार को समझ सकें क्यूंकि कुछ पैसेज ऐसे होते हैं जिनको पढ़ने में अलग अर्थ और समझने की प्रकृति में अलग-अलग अर्थ भी निकलता है। पैसेज में प्रस्तुत किए गए प्रमुख सूचनाओं तथा  शब्दों को सूचित करना चाहिए ताकि शब्दकोश की जटिलता उनसे चुनाव के बारे में दैनिक जीवन वार्तालाप में लागू कर हमेशा अभ्यास करते रहें। लेखक द्वारा पैसेज को देखने का संदर्भ प्रदेश उनके विचारों को मुख्य रुप से ध्यान रखते हुए पूरी पैसेज को पढ़ना चाहिए ताकि सीमित समय में प्रश्नों की सटीक उत्तर की पहचान हो सके।अभ्यार्थी को हमेशा विभिन्न प्रकार के समाचार पत्र- पत्रिका, सम -सामायिक पत्रिका में छपे निबंध , लेख तथा एडिटोरियल का अध्ययन करना चाहिए, जिनसे उनके शब्दकोश मजबूत हो तथा भाग को समझने विश्लेषण और समालोचना करने की क्षमता का विकास होता है। बोधगम्यता में अच्छा अंक प्राप्त करने के लिए निरंतर लेख लिखना और अनेक प्रकार के  उपयोगी पुस्तकें तथा समाचार पत्रों का पाठ करना अति आवश्यक है।

संचार कौशल सहित अंतर-वैयक्तिक कौशल (Interpersonal skills including communication skills)

अंतर-वैयक्तिक आशय यह है अन्य लोगों के साथ बातचीत करने में   प्रयुक्त कौशल से है। एक सिविल सेवा व्यक्तिगत और सार्वजनिक संवाद करने और बातचीत करने के लिए उपयोग में किस प्रकार से संचार स्थापित करें इस माध्यम से  उसका आकलन किया जाता है। क्योंकि एक सिविल सेवक को अपने कार्य निष्पादन के दौरान अपने सहायक कर्मचारियों और उच्च स्तर पर कार्यरत अधिकारियों के अलावा जनता के साथ संवाद कायम करना होता है। आने के बाद ऐसे विकट पढ़ती थी कार्य करते समय आ जाते हैं कि सार्वजनिक स्थलों पर अपने नजरिये से लोगों का मूड ,माहौल  प्रतिकूल हो जाता है वैसे परिस्थिति में भी संयम से काम लेकर जन भावनाओं और जन आकांक्षाओं पर खरा उतरना होता है। 

तार्किक कौशल एवं विश्लेषनात्मक क्षमता(Logical Reasoning And  Analytic Ability)- 

इसके जरिए परीक्षार्थियों का तर्कशक्ति तथा विश्लेषणात्मक परीक्षण किया जाता है, इसमें पूछे जाने वाले प्रश्नों का स्तर औसत होता है,इसके अध्ययन के उपरांत थोड़े ही दिनों में प्रश्न का हल स्वयं किया जा सकता है परंतु इस खंड से  पूछे जाने वाले चैप्टर्स को ध्यान में रखकर नियमित अभ्यास की जरूरत होती है।इसके अंतर्गत रिजनिंग के इन चैप्टर से सवाल प्राय:पूछे जाते हैं।

  • दिशा परीक्षण(Direction Test)
  •  क्रम व्यवस्था(Arrangement)
  •  पूर्व धारणाओं की पहचान(Assumptions)
  • ब्लड रिलेशन
  •  तार्किक वेन आरेख(Logical Venn Diagram)
  •  घड़ी का कैलेंडर
  •  घन घनाभ तथा पासा(Cube-Cuboid and Dice)
  • तार्किक पहेलियां(Logical puzzles)
  • दर्पण एवं  जल प्रतिबिंब
  •  संख्या समस्या
  •  चित्र पूरा करना
  •  कागज काटना एवं कागज को मोड़ना
  •  विश्लेषणात्मक तर्कशक्ति(Analytical Reasoning)
  •  न्याय निगमन(Syllogism)
  • नंबर सीरीज। 

निर्णय लेना और समस्या समाधान(Decision making and problem solving)-

दिए गए उपयुक्त विकल्पों में से सर्वाधिक उचित विकल्प का चयन करना निर्णय कहलाता  है। प्रशासनिक व्यवस्था को भली-भांति चलाने के लिए एक सिविल सेवक को समयानुसार हर प्रकार के निर्णय लेने होते हैं  जिसके आधार पर प्रशासनिक अधिकारी जनता और समाज के बीच रह कर सामंजस्य स्थापित पर कार्य करता है। समय-समय पर एक परिस्थितियां और समस्याओं का समाधान करना उस समय उचित विकल्प का चयन कर सकारात्मक निर्णय  लेना होता है। इसी आधार पर CSAT के पेपर में इससे संबंधित प्रश्न पूछे जाते हैं। 

सामान्य मानसिक योग्यता(General Mental Ability)-

CSAT के पेपर में यह ऐसा विभाग है  जहां परीक्षार्थियों की तार्किक विश्लेषणात्मक योग्यता के साथ-साथ  कुछ गणितीय डेटा व्याख्या तथा संख्यानात्मक आंकड़ों क्षमता का परीक्षण किया जाता है।

आधारभूत संख्ययन –

इस खंड में दसवीं कक्षा के स्तर तक गणित विषय से संबंधित प्रश्न पूछे जाते हैं। इनमें अधिकांशत:  इन चैप्टर से बेसिक प्रश्न पूछे जाते हैं। 

  • संख्या पद्धति
  •  लघुत्तम समापवर्तक एवं महत्तम समापवर्तक
  •  लाभ -हानि
  •  प्रतिशतता
  •  अनुपात -समानुपात 
  •  मिश्रण
  •  साझेदारी
  •  साधारण एवं चक्रवृद्धि ब्याज
  •  समय एवं कार्य
  •  समय दूरी एवं चाल 
  •  नाव तथा धारा
  •   प्रायिकता
  •  बीजगणित
  •  आधारभूत ज्यामिति 
  • क्षेत्रमिति
  •  त्रिकोणमिति
  •  निर्देशांक
  •  ऊंचाई तथा दूरी। 

आंकड़ों का निर्वचन(Data-Interpretation)-

इस खंड में भी विभिन्न आंकड़ों द्वारा संख्याओं अथवा संख्याओं के समूहों को चित्र  के माध्यम से आरेखित कर प्रस्तुत किया जाता है।इनमें यह जरूरी नहीं है कि यह केवल गणित विषय से संबंधित बल्कि किसी विषय क्षेत्र जैसे -राजनैतिक,आर्थिक ,वैयक्तिक, सामाजिक, भगौलिक इत्यादि  विषयों से संबंधित आखिरी हो सकते हैं जिन्हें अलग-अलग ग्राफ, चार्ट , टेबल्स, सारनीयन रेखाचित्र,मिश्रिचित्र,वृत्तचित्र आदि के माध्यम से प्रस्तुत कर इनके आधार पर निष्कर्ष निकालने से संबंधित प्रश्न पूछे जाते हैं। 

CSAT  मैं सफलता पाने के लिए अभ्यास  सर्वोत्तम विकल्प है। विभिन्न पुस्तकों से सभी प्रकार के प्रश्न हल करने का अभ्यास करें तथा पिछली परीक्षाओं के लगभग अनेक प्रश्न पत्र प्रवासी हाल कर अभ्यास करें। इससे परीक्षा प्रश्न पत्र के प्रारूप और पूछे जाने वाले प्रश्नों की पैटर्न की जानकारी मिलती है जो  परीक्षार्थियों के लिए काफी उपयोगी साबित होता है।