HomeJob Profile

आर्टिफिशल इंटेलिजेंस व मशीन लर्निंग में शानदार करियर ! Career in Artificial Intelligence !

आर्टिफिशल इंटेलिजेंस व मशीन लर्निंग में शानदार करियर ! Career in Artificial Intelligence !
Like Tweet Pin it Share Share Email

 

  • आर्टिफिशल इंटेलिजेंस व मशीन लर्निंग वर्तमान में मशीनें इंसानों की तरह काम करने लगे और इंसानों की भांति ही सोचने लगे यह प्राचीन समय में केवल फिल्मों और कॉमिक्स किताबों में देखने और सुनने को मिलती थी परंतु आज की तकनीकी दौर में अब यह पूरी तरह से संभव हो गया हैI  भारत और अमेरिका और अन्य देशों में हमने देखा कि बिना ड्राइवर का गाड़ियां चल रही है ,ऐसी कई कार्य जो बिना इंसान संभव नहीं है आज मशीन कर रही है वह न सिर्फ इंसान से तेजी से काम कर रही है बल्कि सोच भी इंसान की भांति ही बराबर हो गया हैI यह सब संभव हो पाया है आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस यानी एआई की मदद से आर्टिफिशियल उस तकनीक को  कहा जाता है जिसमें एक कंप्यूटर को दिए जा रहे हैं पूरे निर्देशों को ना सिर्फ समझें बल्कि समझने के बाद उस पर अमल करें और उन्हें सुरक्षित करता है और उनके आधार पर भविष्य की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए निर्णय भी देता हैI सोचिये अगर मशीनों के पास अपना दिमाग हो जो इंसानों के भाँती देख ,सुन ,बोल सके एक ऐसा दिमाग जो अपनी तर्क शक्ति से अच्छे-बुरे का फर्क कर सके एक ऐसा दिमाग जिसके पास बुद्धिमता हो ऐसा संभव हो गया है भले हीं आपको इस बात का एहसास ना हुआ होI कई लोग आर्टिफीशियल लर्निंग को बस एक रोबोट से जुड़े तकनिकी तक ही  सिमित रखते है जो पूरी तरह से सही नहीं हैI आधुनिक दौर में तकनीक काफी आगे जा चुकी है इस आलेख के जरिये हम जानेंगे आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस मशीन लर्निंग के बारे में पूरी विस्तृत जानकारी और आने वाले समय में इससे जुडी रोजगार की ढेरों संभावनाएं के बारे मेंI टेक्नोलॉजी के विस्तार होने के कारण इसमें प्रत्येक वर्ष नये-नये करियर विकल्प आ रहे हैं जिसमें है बहुत अधिक रोगजार की संभावना इससे जुड़ी पाठ्यक्रम से संबंधित जानकारियां मालूम कर आप भी अपना भविष्य इस क्षेत्र में शानदार करियर के रूप में बना सकते हैंI

 

  • क्या है आर्टिफिशल इंटेलिजेंस? जैसा की आपको पता है की आर्टिफिशियल का अर्थ  कृत्रिम और इंटेलिजेंस का अर्थ बुद्धिमता होता है अर्थात मशीन की बुद्धिमता से हैI जिस प्रकार इंसान अपने पांच ज्ञानेन्द्रियों(Sense Organs) की सहायता से जानकारी प्राप्त कर अपना सही- गलत हालात के अनुरूप अपना निर्णय स्वयं लेता है ठीक उसी प्रकार आर्टिफिशल इंटेलिजेंस भी अलग-अलग सेंसर नेटवर्क से आंकड़े(Data) जुटाता है, उसके बाद फिर मशीन निर्धारित करता है उसे कब  क्या निर्णय लेना हैI आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस विज्ञान का सबसे असाधारण(उन्नत) रूप है, जिसके जरिए केवल मशीन नहीं बल्कि ऐसा दिमाग बनाया जाता हैI जिसके जरिए कोई भी उपकरण ,मशीन खुद कि सोच विकसित कर सकें अर्थात कंप्यूटर स्वयं सोच सकेIआर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का आशय जीवित जीवों (मानव ,पशु आदि )जैसे एक मशीन में सोचने,समझने और सुनने की क्षमता को विकसित करने से हैI इसके लिए मशीन लर्निंग तकनीक का प्रयोग किया जाता हैI  जैसे बच्चों को सिखाने और उनके ज्ञान को विकसित उनके अभिभाववकों द्वारा की जाती है ठीक उसी प्रकार से कंप्यूटर को इंटेलिजेंट बनाने के लिए मशीन लर्निंग के जरिये (प्रशिक्षण)सिखाया जाता हैI डिजिटिलाइजेशन के बाद इसका महत्व बहुत अधिक बढ़ गया हैIआने वाले दिनों में इसके उपयोग विभिन्न क्षेत्र में देखा जा सकता हैI मशीन लर्निंग आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) का एक एप्लिकेशन है जिसमें कंप्यूटर को एक ऐसा प्रोग्राम फीड किया जाता है,जो दी गयी कमांड को पूरा करता हैI मशीन लर्निंग एल्गोरिदम और डेटा का उपयोग के माध्यम से काम करता हैI एल्गोरिदम का भी अलग-अलग  प्रकार होता है जो दिशा-निर्देशों का एक सेट पर होता है जो कंप्यूटर या प्रोग्राम को बताता है की कार्य कैसे करें या यूँ कहें की मशीन लर्निंग में एल्गोरिदम डेटा को इकट्ठा करता है,पैटर्न पहचानता है और कार्यों का पूरा करने के लिए अपने स्वयं के क्रियाकलापों को और डेटा का विश्लेषण का उपयोग करता हैI

 

  • आर्टिफिशियल इंटिलीजेंस का इस्तेमाल एवं संभावनाएं-

 

 मौजूदा दौर में ऐसे कई क्षेत्र हैं इस तकनीक का इस्तेमाल धड़ल्ले से हो रहा है जिनमें मुख्य रूप से  चिकित्सा क्षेत्र में भविष्य में सर्जरी के लिए भी की जाने की संभावना प्रबल है ,साइबर सिक्योरिटी ,डेटा एनालिटिक्स ,एक्स-रे और बीमारी का पता लगाने में,खेलों में फोटो खींचना उससे जुडी अन्य कार्यों में  ,अंतरिक्ष से जुड़े कार्यों में,ट्रेडिंग पैटर्न की निगरानी ,ऑनलाइन शॉपिंग में वर्चुअल पर्सनल अस्सिस्टेंट में, बड़ी -बड़ी कंपनियां और ऑनलाइन सोशल प्लेटफार्म जैसे फेसबुक ,इंस्टाग्राम ,आदि ऍप्लिकेशन्स आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का इस्तेमाल यूजर्स को जानकारी रखने ,देने और उन्हें मैसेज भेजने में,अलार्म सेट करने ,अपॉइंटमेंट शेडूल तय करने में करती हैIकई वेबसाइट आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की मदद से अपने यूजर्स को उनके पसंदिदा सभी तरह की जानकारियां  मुहैया कराती हैI वर्तमान में गाड़ियों में आर्टिफीशियल इंटिलेजेन्स का उपयोग देखने को मिल रहा ही जहाँ गाड़ियां खुद बिना ड्राइवर के ड्राइव करती है,इसके अलावा भविष्य में पायलटरहित विमान उड़ाने के आर्टिफिशल इंटेलिजेंस का उपयोग का प्रबल संभावना हैI एआई के विभिन्न उद्योग की कारण रोजगार के काफी विकल्प नए-नए खुले हैं जिनमें मशीन लर्निंग इंजीनियर, डाटा साइंटिस्ट, मशीन लर्निंग रिसर्च साइंटिस्ट जैसे कई प्रमुख पोस्ट है जिसकी मांग काफी बढ़ रही है इससे अंदाजा लगाया जा सकता है आने वाले समय में स्मार्ट वर्क और टेक्नोलॉजी ज्ञान रखने वाले युवाओं अन्य की तुलना में काफी बेहतर होगा और उनको रोजगार मिलने की संभावना प्रबल होगीI तकनिकी क्षेत्रों में अग्रणी कंपनियां एआई के निवेश में बढ़-चढ़ कर हिस्सा ले रही है अब तो स्मार्टफोन की तरह ही  अब एआई टेक्नोलॉजी को प्रत्येक उपकरण के साथ जोड़ा जा रहा हैI एक सर्वे की मुताबिक़ आने वाले समय में ये एआई तकनीक का बाजार तीन-गुणा बढ़ने की आशंका हैI इससे यह स्पष्ट हो जाता है की आने वाला समय एआई तकनीक के जानकारों का होगाI एक अनुमान के अनुसार केवल भारत से ही एआई के क्षेत्र दो से तीन लाख तक प्रशिक्षित युवाओं की भर्ती की जायेगीI ऐसे टेक्निकल क्षेत्र रूचि रखने युवाओं के लिए यह क्षेत्र काफी संभावनाओं से भरा हुआ हैI 

 

  • कोर्स एवं शैक्षणिक योग्यता(Courses and Educational qualification)-

 

आमतौर पर 12th के बाद गणित और कंप्यूटर से जुड़े कोई भी स्नातक डिग्री हासिल कर इस क्षेत्र में करियर बना सकते हैंI आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस व मशीन लर्निंग में मुख्य रूप से अगर आप स्थापित करियर बनाने के लिए सॉफ्टवेयर टेक्नोलॉजी ,कंप्यूटर साइंस ,मैथ्स,इलेक्ट्रॉनिक्स,इलेक्ट्रिकल जैसे विभाग से B.TECH या M.TECH या  कोई भी इंजीनियरिंग की डिग्री होनी चाहिएI इसके अलावा ऑनलाइन कोर्सेज जैसे-मशीन लर्निंग,न्यूरल नेटवर्क फॉर मशीन लर्निंग ,आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस फॉर रोबोटिक्स आदि जैसे कोर्स कर इस उद्योग से जुड़ सकते हैंI 

  • वेतन (salary)

इस क्षेत्र में दक्षता हासिल करने वाले युवा शुरूआती दौर में सात से दस लाख रुपये के पैकेज अपनी योग्यता और प्रतिभा के आधार पर वेतन प्राप्त कर सकते हैंI वहीँ 3-4 साल के अनुभव के बाद 18 से 30 लाख रुपये सालाना पैकेज ऑफर हो सकता हैI 

 

  • कहाँ से करें आर्टिफिशियल इंटिलिजेंस का कोर्स-

 

भारत में ऐसे कई इंस्टीट्यूट है,जहां से आप एआई में बी.टेक ,M.TECH या पीजी डिप्लोमा  हैंI इन कोर्सेज के लिए राज्य स्तर और केंद्र स्तर पर ऐसे कई संस्थान है जिनमें प्रमुख निम्नलिखित  हैI 

  • मोतीलाल विश्विद्यालय,प्रयाग 
  • यूनिवर्सिटी ऑफ़ हैदराबाद 
  • IIT मुंबई 
  • IIT बेंगलुरु 
  • आंध्र विश्वविद्यालय 
  • मणिपाल विश्वविद्यालय 
  • IIT खड़गपुर 
  • सेंट्रल फॉर एनवायनमेंटल प्लानिंग एंड टेक्नोलॉजी,अहमदाबाद  इत्यादिI